Skip to main content

Posts

"SAVE THE LIVING BEINGS,
SAVE THE EARTH." 🙏#quote#english#world#save#livingbeings#earth#learn#humanitypic.twitter.com/4p01GNFYas— Ashish Kumar Ranjan (@AKRVOfficial) December 27, 2016
Recent posts

सैनिक कौन होते है?

सैनिक वो नहीं होते है जो किसी दूसरे देश के सैनिकों पर शक करते है...
सैनिक तो वो मजबूत जाति होते है जो हमें हर तरह के आतंकियों से रक्षा करते है और वो तो अल्लाह का दूसरा रूप होते है जो माता-पिता के बाद वो अपना धर्म निभाते है...,
सैनिक दूसरे देश के अपराधियों को कभी भी अपने देश में शरण नहीं दे सकते है.
सैनिक हमेशा हमारे रक्षा के लिए सबसे आगे रहते है तो क्या हम इनका Support नहीं कर सकते?
कुछ नकारात्मक विचार वाले कई लोग ये भी कहते है कि "सैनिक तो सिर्फ मरने या मारने के लिए ही तो बनते है, तुमलोग इसके जैसा मत बनना." ऐसे गंदी सोच वाले लोग भी भटकते रहते है हमारे देश में.
इसलिए ऐसे गंदे सोच वाले लोगों के बातों में न आएँ. हमेशा अपनी दिल की सुनें और अच्छे लोगों की मदद करें.
धन्यवाद!

#FullySupportSoldiersAlways

Don't Come Down Until That You Can't Achieve Your Success.

Good Morning Friends Ji 😇

Effect of Positive Thinking in Hindi

एक ऋषि के दो शिष्य थे | जिनमें से एक शिष्य सकारात्मक सोच वाला था वह हमेशा दूसरों की भलाई का सोचता था और दूसरा बहुत नकारात्मक सोच रखता था और स्वभाव से बहुत क्रोधी भी था| एक दिन महात्मा जी अपने दोनों शिष्यों की परीक्षा लेने के लिए उनको जंगल में ले गये |
जंगल में एक आम का पेड़ था जिस पर बहुत सारे खट्टे और मीठे आम लटके हुए थे | ऋषि ने पेड़ की ओर देखा और शिष्यों से कहा की इस पेड़ को ध्यान से देखो | फिर उन्होंने पहले शिष्य से पूछा की तुम्हें क्या दिखाई देता है |
शिष्य ने कहा कि ये पेड़ बहुत ही विनम्र है लोग इसको पत्थर मारते हैं फिर भी ये बिना कुछ कहे फल देता है| इसी तरह इंसान को भी होना चाहिए, कितनी भी परेशानी हो विनम्रता और त्याग की भावना नहीं छोड़नी चाहिए | फिर दूसरे शिष्या से पूछा कि तुम क्या देखते हो, उसने क्रोधित होते हुए कहा की ये पेड़ बहुत धूर्त है बिना पत्थर मारे ये कभी फल नहीं देता इससे फल लेने के लिए इसे मारना ही पड़ेगा |
इसी तरह मनुष्य को भी अपने मतलब की चीज़ें दूसरों से छीन लेनी चाहिए | गुरु जी हँसते हुए पहले शिष्य की बढ़ाई की और दूसरे शिष्य से भी उससे सीख लेने के लिए कहा | सकारात्…

Contact Us

Name

Email *

Message *